Tuesday, May 9, 2017

घरेलू सहायक 2 - आरवी

आज फिर लगा कि बर्तन तो कर लुंगी पर झाड़ू पोछा करने लगी तो देर हो जाएगी। सो बाज़ार से सामान लाते लाते मैने सिक्योरिटी केबिन में एक बार फिर किसीको काम के लिए भेजने की दरख्वास्त लिखवा दी।
अभी मैं बर्तन कर ही रही थी कि घंटी बजी..
नई सहायक हाज़िर थी। उसने सलीके से झाड़ू पोछा किया और करते करते मेरी परमनेंट सहायक की बुराई भी की, कि आपने जिसे भी रखा है वो ठीक से काम नही करती..कितना कचरा निकला बापरे...
मैने मुस्कुराकर टाल दिया और उसका नाम पूछा।
जवाब आया - आरवी!
आम तौर पर जो भी काम करने आती है उनका नाम कुछ सीधा साधा सा होता है, जैसे रेणु, लक्ष्मी, अनिता, संगीता....पर आरवी ...लगता था जैसे उसके माँ बाप ने बहुत सोचकर...ढूंढकर...बड़े प्यार से ये नाम रखा होगा।
क्या नाम रखते वक़्त उन्होंने सोचा था कि ये नाम इस तरह इस्तेमाल होगा..." आरवी बालकनी में भी पोछा लगा देना", कहते हुए मैंने सोचा....

घरेलू सहायक 1 - प्रवेश

आजकल मेरी घरेलू सहायक छुट्टी पर है। किसी किसी दिन मैं खुद ही घर का काम कर लेती हूं और किसी किसी दिन ऑफिस के काम मे पीछे न रह जाऊं इस डर से किसी और सहायक को बुला लेती हूं। ऐसा करने के लिए सोसाइटी के सिक्योरिटी केबिन में बस एक फ़ोन घूमाना होता है और जिसे ज़रूरत है वो काम करने के लिए आ जाती है।
पहले दिन प्रवेश आयी थी। प्रवेश मध्य प्रदेश के किसी गांव से है। बोल बानी से यहां की नही लग रही थी सो मैने पूछ लिया। उसने जिल्हा भी बताया था पर मुझे याद नही। प्रवेश का पति यहां किसी के फार्म हाउस पर गार्ड का काम करता है। सो इस साल गांव से उसे और उसके दोनों बच्चों को भी ले आया।
मैने गांव के मुकाबले शहर की बुराई सुनने के इरादे से प्रवेश से पूछा.. "यहां कैसा लग रहा है? गांव याद नही आता?"
प्रवेश - "अरे नही दीदी...यहां तो बहुत बढ़िया है। गांव में तो परेशान थे। सास सताती थी...दिन भर काम कराती थी। उसके बाकी दो बेटे खेत मे काम करते है तो रोटी का ताना देती थी। यहां कोई किटकिट नही है।"

मैं - अच्छा तो तुम्हारे पति किसानी नही करते?

प्रवेश - नही दीदी... 2 बीघा तो जमीन है..तीन भाई...क्या मिलता होगा बताईये? यहां हम दोनों जने मिलके उतना ही कमा लेते है...ऊपर से कोई झिकझिक नही..
मैं - ह्म्म्म...बच्चो को कहां छोड़ कर आती हो?

प्रवेश - मेरे हसबैंड ले जाते है। अब यहां लाऊं तो अपने साथ कहाँ कहाँ ले जाऊंगी। और नीचे छोडूंगी तो देखेगा कौन। वहां मजे से खेलते है।

प्रवेश का काम खत्म हुआ...जाते हुए मैंने पैसे दिए तो उसने पूछा..."दीदी कोई टच स्क्रीन वाला फ़ोन पड़ा है आपके पास...कोई पुराना जो काम न आता हो...मेरे हस्बैंड को चाहिए था। उनके पास था पर खराब हो गया"
बाहर शहर की घुटन भरी हवा में एक कबूतर फिर नीचे आ गिरा था..