Tuesday, August 15, 2017

Azaadi 2017

आज़ादी का जश्न मनाते मनाते...
मैं थक गया हूँ दागे वतन छुपाते छुपाते...
कभी तिरंगे से ढकी बच्चो की लाशें
कभी देशभक्ति में समेटी रेप की वारदातें
कभी राष्ट्रगीत के बीच गुम कर दी कश्मीर की चीखें
और कभी शहीदों की कहानियों की आड़ में अनसुनी की किसानों की बातें
हाँ....आज़ादी का जश्न मनाते मनाते...
मैं थक गया हूँ दागे वतन छुपाते छुपाते...
- मानबी #आज़ादी_मुबारक

Monday, August 14, 2017

घरेलू सहायक -आंटी

"आवि जाओ आंटी"
रोज सुबह ठीक 9 बजे आंटी मेरे घर पहुंचती और में इसी तरह उनका स्वागत करती। मेरे मुह से गुजराती सुनके उनके झुर्रियों भरे चेहरे पे जो मुस्कान आ जाती थी वो मुझे बहुत अच्छी लगती।
आंटी अपनी बातें गुजराती में बताती, में हिंदी में जेवाब देती। आधी बातें उन्हें समझ नही आती....आधी मुझे। पिछले दिनों एक बार उनके पति का फ़ोन आया, तो बोली मेरे उनका फ़ोन था। आंटी ज़्यादातर बिंदी नही लगाती तो मुझे लगा था कि शायद उनके पति नही होंगे। पहली बार उनके पति का ज़िक्र हुआ तो मैंने पूछ लिया कि वो क्या करते है? आंटी ने कहा "कुछ नही ...पहले खेती करता था..अब बूढ़ा हो गया है...क्या करेगा। दोनों बेटे यहाँ शहर में काम करने आये थे। उन्हें पता लगा कि घरो में झाड़ू पोछा करने के अच्छे पैसे मिलते है सो हम बुढ्ढा बुड्ढी को भी ले आये।"
मैने आंटी से पूछा कि गांव अच्छा लगता था या शहर?
आंटी ने तुरंत जेवाब दिया...गांव बहुत अच्छा था। जान पहचान थी...खुली हवा थी। यहां तो हर तरफ घर ही घर है..
आंटी का कहना था कि दोनों बेटों की शादी हो जाये तो वो और उनका पति वापस गांव लौट जाएंगे।
हर रोज़ की तरह जाते हुए मैंने आंटी से कहा " ओके बाये, हैव अ नाइस डे...आई लव यू..."
रोज की तरह बिना इसका मतलब पूछे आंटी ने ये सब कुछ हंसते हुए दोहराया।
पर पता नही उस दिन मुझे क्या हुआ था...मैन उन्हें आई लव यू का मतलब समझाया..."इसका मतलब है ...हूँ तमे प्रेम करू छू" सुनते ही आंटी ज़ोर ज़ोर से हंस दी। फिर बोली "और हैव अ नाईस डे एटले?"
ये मुझे गुजराती में नही आता था तो मैंने हिंदी में ही समझाया। आंटी ने प्यार भरी मुस्कान दी और चल पड़ी।

आज़ादी की सत्तरवी वर्षगाँठ

आज़ादी की सत्तरवी वर्षगाँठ के ठीक एक दिन पहले....सारी तैयारियां हो चुकी थी।
झंडे का इंतज़ाम...बच्चो का डांस....सांस्कृतिक प्रोग्राम और देशभक्ति के गान।
इस बात की पूरी गारंटी थी कि 70 साल के इस जश्न में कोई कमी न होगी।
कुछ छोटी मोटी त्रुटियां है...जो इस दिन अपनेआप ही सुलझ जाएंगी
रेप पीड़िताओं की सिसकियाँ राष्ट्रगान के आगे छिप जाएंगी।
ऑक्सीजन न मिलने से मरे बच्चो की लाशें तिरंगे के साये तले खो जाएंगी।
वो जिस विधवा को डायन कह के मल खिलाया गया था,
वो स्वच्छ भारत अभियान के तहत धूल जाएंगी।
और कश्मीर में मरनेवालों की चीखें देशभक्ति के नारों के बीच दब जाएंगी।
इस दिन सारी कमियां अपनेआप ही सुलझ जाएंगी...
आईये आज़ादी की सत्तरवी वर्षगांठ का जश्न मनाये...
आईये एक बार फिर से देशभक्ति को याद रखे और देश को भूल जाये...

Sunday, July 2, 2017

Posto

Jabo ki jabo na... Adi o mishti'r khawa dawa... Eka eka raat doshtaa' e ferot aasha... Onek guli proshno maathaye ghurchilo.
Adi bollo tui ja... 'Aamra pick korte chole aashbo.'
Toyri hote hote hote aamar mukher udaashinota ta dekhe Adi bollen..'chol toke chede diye aashi.'

Mishti ke toyeri korlam, ami toyeri holam...rastar traffic...shob niye almost 20 minutes er movie ta baad gelo.

Dhuktei shunlaam...
"Shokatore oi kaandiche shokole...shono shono pita..."
Shonge dekhlaam Shoumitro.... Bas...shob bhule gelam...
Posto ...I am so glad you happened to me :)

Thursday, June 29, 2017

बेरुखी

सालो की बेरुखी के बाद...
तुम एक दिन अचानक बदल जाते हो।
बोतल में पानी से लेकर
रिश्तों में आई दरार भी भरने लगते हो।
अपना बिस्तर ठीक करते हो
बिटिया के लिए नाश्ता रेडी रखते हो
और यहां तक की खाना खाकर सीधे लेट नही जाते
किचन में काम खत्म होने तक मेरे साथ रहते हो।
संडे को कपड़े मशीन में याद से डालते हो
और फिर बिना कहे सुखाने भी लगते हो।
और जब धीरे धीरे मैं दुबारा मुस्कुराना सीख जाती हूँ
तो तुम दुबारा बेरुखे हो जाते हो....
अब फिर एक बार बोतलों में पानी मैं ही भरने लगी हूँ
रिश्तों के बीच की खाई में गिरने से डरने लगी हूँ।

Tuesday, June 20, 2017

Refugee - 1964

“They had entered my Uncle’s house. Every one started running… even I did. My maternal Uncle’s house was 3 villages far from ours. We would just run and reach there whenever we wanted too. Each and every bit of the road was memorized by us. But that day… I was scared. I reached the makeshift bridge and couldn’t cross it any more. My cousin came and held me from behind and dropped me home safely. But then just after four days, they reached our village too. They would kill the men and children and abduct the women. We left everything and just ran away…,” – Gurupada Bacher , a refugee from Khulna district of Bangladesh who was rehabilitated in India after the 1964 east Pakistan Riots.

27 December 1963, Srinagar, India –

The hair of Muhammad went missing from the Hazratbal Shrine. There were mass protests in Jammu and Kashmir over the disappearance of the relic. In East Pakistan, Abdul Hai, a member of the Advisory Committee of the Islamic Board declared jihad against Hindus and other non-Muslims of East Pakistan.  On 4 January 1964, the relic was discovered and the miscreants were arrested. However, the next day Pakistan Radio described the discovered relic as fake.

1963, Khulna, East Pakistan –

Three years before the Hazratbal incident took place, Abdus Sabur Khan, the Communications Minister of Pakistan, had forcibly occupied 30 bighas of land from Rupchand Biswas, a Hindu landowner from Matikhali in 1960 and erected a three-storeyed building in it. Rupchand Biswas instituted a case against Khan which the latter lost. The court decreed Abdus Sabur Khan to pay 135,000 rupees. He approached Biswas for an out of the court settlement which he refused. In the meanwhile, Majid Mian, the nominee of Abdus Sabur Khan lost in the district council elections. After the loss, Khan and his party members including the Chairman of Chamkuri Union Board held the Hindus responsible for the defeat and began to threat them with dire consequences. During Hazratbal incident, Khan used the opportunity to teach the Hindus a lesson.

2 January 1964 –

Abdus Sabur Khan addressed a huge gathering at Daulatpur industrial area in the outskirts of Khulna. Thousands of Muslims, armed with deadly weapons assembled at Daulatpur to listen to Khan. Khan delivered a rabidly anti-Hindu and anti-India speech, where he described the Hazratbal incident as a Hindu conspiracy. Immediately after the meeting, a 20,000 strong Muslim crowd spread out in the neighbouring localities of Senhati, Maheshwarpasha, Pabla, Chandani Mal and Daulatpur and began to loot Hindu properties and set them on fire. Many Hindus were killed or brutally assaulted. A section of the mob marched towards Khulna, disrupting rail and road traffic reaching the town at sunset. For the next four days an orgy of loot, arson, murder, rape and abduction continued in Khulna. All the villages along the road from Khulna to Chalna were destroyed. On 4 January, the violence spread to Mongla. An estimated 300 Hindus were either killed or injured at Mongla port.
Similar riots followed in Dhaka, Narayanganj, Rajshahi, Sylhet and Mymensingh killing, torturing and burning the Hindus and their properties.

12 January 1964, East Pakistan –

The East Pakistan government promulgated the East Pakistan Disturbed Persons (Rehabilitation) Ordinance (I of 1964), that prohibited the sale of immovable property by any Hindu. When the exodus started, the Hindus had no other option than to leave their properties and flee to India.
Thousands of Hindus arrived in India as refugees. Everyday about 5,000 to 6,000 Hindus queued up in front of the Indian embassy in Dhaka to emigrate to India. But only 300 to 400 used to get the permit.

The migration –

According to Indian authorities, an estimated 135,000 Bengali Hindu refugees had arrived in West Bengal. During this time, many of the remaining Hindu residents of Panamnagar left for India
More than 75,000 refugees, of which about 35,000 were Christians, from East Pakistan arrived into Assam within one and half months since the genocide began. The refugees, mostly Garos, Hajongs and Dalus from Mymensingh took refuge in Garo Hills in Assam, now in Meghalaya.
The forced migration of the tribal people, especially Christian tribal created a lot of stir in the international community. Realizing the consequences, the Pakistan government made an effort to woo the tribal people back home. The district administration of Mymensingh appealed to the refugees to return. The Archbishop of Dhaka met President Ayub Khan and wrote a letter appealing to the tribal refugees to come back home. The Indian authorities announced the appeal of the Pakistan government and the Archbishop of Dhaka to the refugees in the camps and offered them free transportation to the border. The tribal refugees rejected the appeal and declined to go back to Pakistan.

Relief and rehabilitation of Indians as REFUGEES in India -

In India, the refugees were provided relief in temporary relief camps in Assam, West Bengal and Tripura. Later they were provided rehabilitation in different parts of India. 6,000 Chakmas were provided shelter at a relief camp in Silchar. 12 provisional camps were set up at Tura in Garo Hills to provide relief to around 50,000 Garos and other tribals from East Pakistan. The refugee rehabilitation became a national problem in India, and hundreds of refugees were resettled in Dandakaranya (Now Maharashtra and Madhya Pradesh)

“I was just thirteen when we migrated. There nothing left there and whatever was with us was looted while we were migrating. When we reached India, it was almost a warm welcome. We were served Khichri and given blankets. We stayed in camps for a year or two and then were rehabilitated in Maharashtra,” says Dr. Santosh Sankhari  who completed his M.B.B.S in 1986 from Government medical college of Nagpur.

Dr. Sankhari was one among the thousands of Hindu families who migrated to India after the 1964 riots.

“Everyday was a struggle, but all thanks to the Indian government who gave us the opportunity to live our lives with dignity once again,” he says.

After taking a degree in medicine Dr. Sankhari served the nation by working as a medical officer in CRPF for two years. He then started his practice in Chandrapur, Maharashtra where there were huge number of migrant Bengalis still struggling to make ends meet. He would treat these patients for free or nominal fees. Today one of his sons is a pediatrician, following the footsteps of his father and another son is working in a multi-national company in Bengaluru. According to Dr. Sankhari, everything he or his family has achieved today was because the Indian government gave them shelter back then when they needed it the most.

Uma, who left her birth place Khulna at the age of eight recalls very few but only horrific experiences of the migration.

“One of my sisters was really small. I remember my mother closing her mouth tight with her hands till the time we reached the border. Three to four families had to stay together in one tent and we would get in line to get Khichri all three times a day. Everyday a truck used to come to take away the dead bodies from the camps. And then once they took away my little sister too,” says Uma.

After a year of staying in the camps the kids were sent to the army camp to stay in a hostel and continue their studies.

“The army camp had classes till 7 and then we went to Mana camp to study further. My father had cataract and lost his eyesight. My brother got a job as a teacher, but then he had his own family. So I would take tuitions to support my education. There were many of my friends who would work as daily wage laborers in the night, especially in the coal mines to pull the coal wagons and would study in the day,” says Gurupada Bacher

The refugee community was mostly looked down upon by other Bengalis who were well settled in India much before the partition took place. Hence the community grew closer and supported each other in every possible way. They would also prefer marrying their children to each other. Uma and Gurupada also were married in 1972. Gurupada who did ITI in electrical managed to get a job and the couple made sure their children can come out of the humiliation of being called as a refugee through education.

“I knew right from the beginning that the poverty, the humiliation, the helplessness everything can be won over only through education and so I did not compromise on my children’s education come what may,” says Uma Bacher

Uma and Gurupada’s son, Dr. Gautam Bacher is a lecturer at BITS, PILANI, Goa campus. He is a B.E (electrical), M.tech (instrumentation), MBA and a Phd holder. And their daughter, Manabi Bacher Katoch is an author at The Better India. They all believe and say just one thing in unison, that they owe everything they are today to India.


Tuesday, May 9, 2017

घरेलू सहायक 2 - आरवी

आज फिर लगा कि बर्तन तो कर लुंगी पर झाड़ू पोछा करने लगी तो देर हो जाएगी। सो बाज़ार से सामान लाते लाते मैने सिक्योरिटी केबिन में एक बार फिर किसीको काम के लिए भेजने की दरख्वास्त लिखवा दी।
अभी मैं बर्तन कर ही रही थी कि घंटी बजी..
नई सहायक हाज़िर थी। उसने सलीके से झाड़ू पोछा किया और करते करते मेरी परमनेंट सहायक की बुराई भी की, कि आपने जिसे भी रखा है वो ठीक से काम नही करती..कितना कचरा निकला बापरे...
मैने मुस्कुराकर टाल दिया और उसका नाम पूछा।
जवाब आया - आरवी!
आम तौर पर जो भी काम करने आती है उनका नाम कुछ सीधा साधा सा होता है, जैसे रेणु, लक्ष्मी, अनिता, संगीता....पर आरवी ...लगता था जैसे उसके माँ बाप ने बहुत सोचकर...ढूंढकर...बड़े प्यार से ये नाम रखा होगा।
क्या नाम रखते वक़्त उन्होंने सोचा था कि ये नाम इस तरह इस्तेमाल होगा..." आरवी बालकनी में भी पोछा लगा देना", कहते हुए मैंने सोचा....

घरेलू सहायक 1 - प्रवेश

आजकल मेरी घरेलू सहायक छुट्टी पर है। किसी किसी दिन मैं खुद ही घर का काम कर लेती हूं और किसी किसी दिन ऑफिस के काम मे पीछे न रह जाऊं इस डर से किसी और सहायक को बुला लेती हूं। ऐसा करने के लिए सोसाइटी के सिक्योरिटी केबिन में बस एक फ़ोन घूमाना होता है और जिसे ज़रूरत है वो काम करने के लिए आ जाती है।
पहले दिन प्रवेश आयी थी। प्रवेश मध्य प्रदेश के किसी गांव से है। बोल बानी से यहां की नही लग रही थी सो मैने पूछ लिया। उसने जिल्हा भी बताया था पर मुझे याद नही। प्रवेश का पति यहां किसी के फार्म हाउस पर गार्ड का काम करता है। सो इस साल गांव से उसे और उसके दोनों बच्चों को भी ले आया।
मैने गांव के मुकाबले शहर की बुराई सुनने के इरादे से प्रवेश से पूछा.. "यहां कैसा लग रहा है? गांव याद नही आता?"
प्रवेश - "अरे नही दीदी...यहां तो बहुत बढ़िया है। गांव में तो परेशान थे। सास सताती थी...दिन भर काम कराती थी। उसके बाकी दो बेटे खेत मे काम करते है तो रोटी का ताना देती थी। यहां कोई किटकिट नही है।"

मैं - अच्छा तो तुम्हारे पति किसानी नही करते?

प्रवेश - नही दीदी... 2 बीघा तो जमीन है..तीन भाई...क्या मिलता होगा बताईये? यहां हम दोनों जने मिलके उतना ही कमा लेते है...ऊपर से कोई झिकझिक नही..
मैं - ह्म्म्म...बच्चो को कहां छोड़ कर आती हो?

प्रवेश - मेरे हसबैंड ले जाते है। अब यहां लाऊं तो अपने साथ कहाँ कहाँ ले जाऊंगी। और नीचे छोडूंगी तो देखेगा कौन। वहां मजे से खेलते है।

प्रवेश का काम खत्म हुआ...जाते हुए मैंने पैसे दिए तो उसने पूछा..."दीदी कोई टच स्क्रीन वाला फ़ोन पड़ा है आपके पास...कोई पुराना जो काम न आता हो...मेरे हस्बैंड को चाहिए था। उनके पास था पर खराब हो गया"
बाहर शहर की घुटन भरी हवा में एक कबूतर फिर नीचे आ गिरा था..

Saturday, April 22, 2017

If Only

They say, there's always someone 
in a relationship, who loves more. 
I wish it wasn't me.....

 I feel like I'm a really high second priority to you. That hurts. And the worst part is I'm starting to get used to it.....

If there had just been one day, one day where nothing else matters but us.....

Wednesday, April 19, 2017

लाउडस्पीकर, मंदिर, मस्जिद और 19 साल!

1998 की बात है... मैं दसवी में थी। नया नया पढ़ने का जौक लगा था। मेरा मतलब है कि आठवी तक तो मैं पढ़ाई में बिल्कुल निपट नालायक होती थी। आठवी से थोड़े हालात सुधरे और माँ बाबा की आशाएं भी। खैर! अब नंबर ठीक ठाक आने लगे थे तो पढ़ाई में मन भी लगने लगा था पर शाम को जैसे ही पढ़ने बैठो तो पास के हनुमान मंदिर से ज़ोर ज़ोर से लाउडस्पीकर पर गुलशन कुमार की पिक्चरों के गानों की धुन पर अनुराधा पौडवाल की आवाज़ में शिवभक्ति के गीत सुनाई देते.... "हे भोले बाबा...ये क्या हो गया..." इस टाइप का कुछ...
जब परीक्षा सर पर आ गयी तो माँ और मैंने तय किया कि मंदिर के पुजारी को जाकर अनुरोध करेंगे कि बस परीक्षा खत्म होने तक लाउडस्पीकर न चलाये। पर जवाब में उनकी घृणित नज़रे मिली..." कि हाय राम... इनको भगवान का नाम लेने से भी ऑब्जेक्शन है??"
उमर हो चली है इसलिए ये तो याद नही कि उन्होंने क्या कहा था पर उनकी वो नज़रे अभी तक याद है...
इसके बाद हमने इस ज़बरदस्ती के भक्ति भाव की आदत डाल ली।

मिष्टी के होने के बाद जब मैं उसको लेके भिवाड़ी (राजस्थान) आयी तो बड़ा अच्छा लगा ये देखकर कि सोसाइटी में एक मंदिर है और सोने पे सुहागा...मंदिर ठीक हमारी बालकनी के नीचे था तो रोज़ आरती सुनाई देती थी। रोज़ शाम को खड़ताल और घंटियों के बीच 5 मिनट की आरती दिन भर की थकान मिटा देती थी। पर फिर शुरू हुआ रामायण और सुंदरकांड का पाठ, जो रात रात भर चलता। जगराते में गिन कर 5 लोग बैठे होते और लाउडस्पीकर फुल वॉल्यूम पर चलता...
तंग आकर एक दिन मंदिर के आसपास के ब्लॉक में रहनेवाले लोगो ने पुलिस में कंप्लेन करने की ठानी। 3-4 गाड़ियां भर कर पुरुष , औरते , बच्चे सब गए...पर जवाब मिला कि धार्मिक मामले में कुछ नही किया जा सकता।

मैं मुसलमान नही हूँ। पर मुझे अज़ान की आवाज़ हमेशा सुकून देती है। चेन्नई की छत पर शाम को मंदिर की घंटियों के साथ जब एक रूहानी आवाज़ में 'अल्लाह हु अकबर ...' सुनाई देता...तो लगता मानो आसमान से कोई रूह तक पहुंचने के लिए पुकार रहा है। पर मुझे फिल्मी गानों की धुन पर भजन या जगराते में लाउडस्पीकर पर रामायण पाठ से हमेशा दिक्कत रही।
1998 में जब पहली बार मैंने और माँ ने इस मुद्दे को उठाया था तो लगा था कि हम मामूली लोग है ...हमारी कोई क्यों सुनेगा। और फिर वो ज़माना भी तो कुछ और था। पर आज 19 साल बात...एक जमाना गुज़रने के बाद... और किसी गैर मामूली नागरिक के इस मुद्दे को उठाने के बाद भी क्या बदल गया। जितनी घृणा उन पंडितो की नज़र में थी, उतनी ही घृणा आज ट्विटर पर है। बस प्लेटफार्म बदल गया है...सोच वहीं है!

Friday, April 14, 2017

दुनिया

यहाँ कुत्ता घुमाने के लिए इंसान को रखा जाता है...
अजब सी दुनियां है यारो
यहां रिश्तों की जगह सामान को रखा जाता है..
- मानबी

Thursday, April 6, 2017

Things Stay at Home Moms Say To Working Moms Which Are Annoying!

I read a number of posts where stay at home moms express their frustration to be judged as doing nothing or are considered to be inferior than working Moms. But there's this other side of the story...the story of a working mom who is being humiliated by stay at home moms for their decision to choose both career and home and not just "Home"!

Here are some comments that stay at home moms make which can be hurting as well as annoying for working moms -

1) I don't know how a mother can leave her child at day care... I can never do it! (It's difficult for working moms too but you are making it more difficult by saying this)

2) Why do you have to have a child when you were so career oriented?
(Why can't a couple have both. One never asks this question to men)

3) School canteen is so not healthy... I always give one extra tiffin to my child...let it get wasted but I don't want her to eat unhealthy food. Homemade food is the best.
(Just like everyone cannot work similarly everyone cannot cook. Agree that homemade food is best but Schools ensure imbibing healthy food habits in children too. Don't make it sound like people who choose latter don't care about their child's health)

4) I wake up at 5:30 AM to make full meal for my child.
(Yes you have the privilege to take a nap later... Working moms don't!)

5) Afterall money is not everything.
(Not necessarily all working moms are working just for the sake of money. They also want their education to put to some use just like working fathers do!)

7) I don't know how they get time to dress up early in the morning. We have so much work that we don't even get to see the mirror.
(They have to manage time to dress. It's not a choice, it's a protocol)

9) She pretends that she is so busy even though she has a cook.
(There's lot more to do in a house other than cooking and cleaning, who would know better than a stay at home mom?)

10) This one is specifically for a work from home mom - "What do you do the whole day??"
(She is a full time employee dammit! Even if you can't see her going to the office, her home is her office.)

**Dedicated to a friend who used all these phrases when she couldn't get a job, but opted to put her child into a day care as soon as she got a good offer!

Agree or disagree...we all want to work and earn some money of our own. Few can and few cannot. It depends on their choices or circumstances. We just keep others feel inferior to make ourselves feel superior and convince our mind that we have taken the right decision.

Just like every child is different, every mother is different too. So #StopJudging and "#Respect all the moms for who they are :)

Thursday, March 30, 2017

मेरा पहला सेलिब्रिटी इंटरव्यू :)

संचारी ने सबसे पहले ये सेलिब्रिटी इंटरव्यू वाला सिस्टम शुरू किया था। देख देख के मेरा भी बड़ा मन किया कि मैं भी एक सेलिब्रिटी इंटरव्यू करूं।
संचारी अब तक टी.वी या परदे के पीछे टाइप के कलाकारों का इंटरव्यू ले रही थी। पर मैंने डायरेक्ट सहवाग पर आकर ऊँगली रखी।
कॉमेडी नाइट्स विथ कपिल पर उनके सहवाग इंटरनेशनल स्कूल खोलने के पीछे की दुःख प्रेरणादायक कहानी सुनी तो लगा ये हमारे 'द बेटर इंडिया - खबरे जो आपको प्रेरणा दे' के लिए बिलकुल फिट है।
सहवाग के ट्विटर अकाउंट पर उनके असिस्टेंट का फ़ोन नंबर भी मिल गया।
बस फिर क्या था बिना एडिटर को पूछे ही मार दिया दांव। दान लगा भी...पर सही निशाने पर नहीं :(
सहवाग से बात तो नहीं हो पायी पर क्योंकि स्कूल की पब्लिसिटी हो जाती इसलिए शायद उनके असिस्टेंट ने सारे सवालो के जवाब मेल पर ही भेज दिए।
बहुत एक्ससिटेड होकर मैंने आर्टिकल तैयार किया जो बारा के भाव में झट से रिजेक्ट हो गया।
पर मेरा संकल्प अडिग था। साथ ही संचारी कोई भी नया सेलिब्रिटी इंटरव्यू करती तो ये संकल्प और पक्का हो जाता।
एक दिन लेटे लेटे याद आया कि मेरी फ्रेंड स्वाति ने कहा था कि उसके जीजाजी पियूष मिश्रा के दोस्त है।
बस आ गया आईडिया....
पर पियूष मिश्रा....और द बेटर इंडिया????
खैर देखि जायेगी...ये सोचकर मैंने फटाक से स्वाति को दोस्ती की गुहार लगाते हुए व्हाट्सअप किया..." यार पियूष मिश्रा का इंटरव्यू दिला दे"
पर इस बार एडिटर से पूछ लिया था कसम से।
स्वाति ने अपने जीजाजी से गुहार लगायी और मुझसे कहा कि उनसे बात कर लूँ।
जीजाजी से भी बात हो गयी...उन्होंने पियूष जी के असिस्टेंट राहुल गांधी से बात करने को कहा।
राहुल जी से भी बात हो गयी। उन्होंने मेल करने को कहा।
मेल भी कर दिया...और कई दिनों तक कोई जवाब नहीं आया। मैं रोज़ एक बार राहुल जी को व्हाट्सअप पर उनकी खैर खबर ज़रूर पूछती। पर उनका कोई जवाब नहीं आता। राहुल जी ने ब्लू टिक भी ऑफ कर रखा था तो ये भी समझ नहीं आता कि वो मेरा दुआ सलाम पढ़ भी रहे है या नहीं।
और फिर आखिर तीस मार्च 2017 को दोपहर 3 बजे फ्रस्टिया के मैंने राहुल जी को व्हाट्सअप किया कि सर अगर टेलीफोनिक इंटरव्यू नहीं देना चाहते तो क्या मैं आपको सवाल मेल कर दूँ?
बस तुरंत जवाब आया... मॉफ करियेगा डिले हो गया। मैं बात करता हूँ।
और फिर थोड़ी देर में व्हाट्सअप फिर बजा...इस बार राहुल जी ने कहा कि 4:30 बजे बात कर लीजियेगा। पियूष जी का फ़ोन नंबर है। मैंने कहा 'नहीं'.
और बड़ा मज़ा आया कि पियूष मिश्रा...माने पियूष मिश्रा का फ़ोन नंबर मिल जायेगा...डायरेक्ट बात करने के लिए????
4:30 बजे फ़ोन लगाया...हुस्ना वाली वही आवाज़!!! 2 मिनट के लिए सर सकपकाया।
पहला सवाल पूछा कि सर अपने बचपन की कोई याद शेयर करे...जिसके जवाब में जो मिला उसके बाद अपने आपको ये सवाल करने के लिए 1.5 मिनट बहुत कोसा।
फ़टाफ़ट दूसरे सवाल पर आ गयी। अभी दूसरे सवाल में वार्म अप हो ही रहे थे पियूष सर कि फ़ोन में से आवाज़ आने लगी...टूँ टूँ टूँ.... मैंने कहा "हेल्लो"...उन्हीने कहा "हेल्लो"...ओह्ह शिट ये तो बैलेंस ख़त्म हो गया....अरे पर्स ही तो 90 रूपये दिखे थे। सोचा था महीना चल जायेगा....और ये फोन कट!!!!
फ़टाफ़ट paytm किया....भला हो मोदी जी का जो नोटबंदी करा दी वर्ना paytm में कार्ड सेव करके कौन रखता है।
फिर कॉल लगाया...2 सवाल और पूछे ही थे कि पियूष जी गायब..." हेल्लो...हेल्लो"....और ये फ़ोन कट।
दुबारा किया तो..."तुम्ही ज्या नंबर वर फ़ोन करत आहात तो आता कवरेज क्षेत्राचा बाहेर आहे।"
दुबारा नंबर लगाया...इस बार बीजी बताने लगा। usually ऐसा होने पे मैं वेट करती हूँ कि अच्छा है अगला ही फ़ोन लगाए ;)
पर पियूष जी मुझे फ़ोन करेंगे....नहीं नहीं...
सोच ही रही थी कि फ़ोन बजा...पियूष मिश्रा कालिंग
कॉल उठाया और कहा..." सर मैं दुबारा लगाऊं आपको"?
"नहीं....बात करो"
और इस तरह..पियूष जी से कॉल करवा कर मैंने अपनी ज़िन्दगी का पहला सेलेब्रिटी इंटरव्यू लिया :)

Monday, March 27, 2017

The last paragraph!

I keep concentrating hard on how to write the concluding paragraph of my article and ta...daaaa... Here comes my princess back from the park. As a huge fan of Nobita, she believes in announcing the big arrival with.. "Mamma I came back..."
Thankfully she is 6 now and can pee, poo and wash herself alone. So she does all of that and orders me for a glass of water...then a banana...and then anything and everything I will be dead tired of searching..like one of her stereoscope from the doctor set which might be lying just behind the cupboard or a long lost book which she might have not touched in the past 6 years 😭
After finishing all this I would return to what I say, 'concentrate on my work'.... And here you go she will give me a guilt drive by saying that age old cleashayed line woman use all the time... "Mamma you don't listen to me...or you don't have time for me"...
Buaahhhh... I leave the last para again and listen to all the chitter chatter for say 5 minutes...and that's it.. my mommy guilt is over...time for some employee guilt.
I ask her to keep quite for another 10 minutes and get back to what I say 'concentrate on my work'!
The last para id about to strike the cord of my last nerve of the brain when she starts her questions on anything she is doing... If it is a mobile game...then how to download the new version. If it is tv then what is or why is the character doibg or saying...etc etc etc...
My deadline is just a few minutes away and I continue answering my daughter while finishing the last para!!!😢😢😢

Thursday, March 23, 2017

Main apni baat kahu to kya doge?

Main apni baat kahu to kya doge?

Bejhijhak bebak banu to kya doge?

Tum mujhse mere hone ka

Main janti hun hakk cheen loge!

Main tumse apni baat kahu to kya doge?

Main rafta rafta jeene ka ... Gur seekh rahi hun ...mat toko

Main chup rahkar sab sahne ka ...gur seekh rahi hu...mat roko

Tum kahte ho bebaak raho

Jo dil me aaye wo kaho..

Main dil ki baaton ko dafn karne ka gur seekh rahi hu...mat toko

Main tumse sab kuch kah bhi du

Main zinda hun ye saabit kar bhi du

Tum mere zinda hone se kya ghanta mujhse ittefaq karo

Tum mere sach kah dene se kyu ganga me ja doob maro

Sach ye ki tum jhoothe ho..

Sach ye hai ki tum nange ho

Sach ye hai ki tumse mera mazhab na bardaasht hua na hoga kabhi

Sach ye hai main gar sach kah du... Tum sharm ka chaadar de doge

Sach ye hai us chaadar ki aad me tum meri achchi tarah le loge...

Sach ye ki main sach kah du to tum sab hoth see loge

Fir tum hi kaho...main apni baat kahu ...to tum sab mujhko kya doge?

Tum doge ik bhookha bachpan, tum doge ik nanga yauvan, tum doge galiyan do chaar aur tum doge bhar bhar bhrashtachar, tum doge naari ka darpan, tum doge ammaran anshan, tum doge wahi galgal sarkaar, tum doge wahi deh vyapar, tum doge rashan ki line, tum doge signal par fine, tum doge mahangayi ka khel, tum doge do partiyon ka mel, tum doge twitter ki war , tum doge facebook ka sansaar.

Jab wahi doge jo dete aaye ho to main kya naya kahu....aur tum kya naya laye ho...

Chalo fir bhi....Main apni baat kah bhi du to kya doge? 

Wednesday, February 22, 2017

मुझे बेतरक़ीब रहने दो!

मुझे बेतरकीब रहने दो..
मुझे तुम्हारी तरकीब से जीना नहीं आता।

कि रातों को देर तलक नींद नहीं आती
सुबह को जल्दी उठना नहीं आता...

न नहाना लाजमी लगता है,
और बेवजह संवरना नहीं आता।

मैं दिल की सुनके मुफ्त में भी लिखती हूँ.
मुझे तुम्हारी तरह बेमन से कमाना नहीं आता।

औरों की तरह बन जाओ दुनियां बेशक ये कहती हो,
औरो की तरह बनकर घुंट भी जाऊँ, तो बचाने को ज़माना नहीं आता।
- मानबी